बरेली में चोरी के इल्जाम में चार मुस्लिम लड़कों को बांधकर बेरहमी से पीटने का वीडियो वायरल

भीड़ द्वारा घेरकर-बांधकर पीटने (भीड़ का न्याय) की बढ़ती घटनाओं के बीच उत्तर प्रदेश के बरेली में एक मामला सामने आया है. जहां कथित चोरी के आरोप में, चार मुस्लिम लड़कों को बेरहमी से पीटा गया है. इनमें से एक शीबू-के हाथ-पैर बांधकर पिटाई का वीडियो वायरल हो गया है. पुलिस ने पीटे गए शीबू, उनके साथी मुहम्मद अजीम, राहिल और साहिल को चोरी के इल्जाम में जेल भेज दिया है. लेकिन पिटाई करने वाले ग्रामीणों के विरुद्ध कोई कार्रवाई नहीं हुई है.

घटना 22 जुलाई है. जोकि बरेली के थाना कैंट इलाके के भरतौल गांव में घटी. जिसका वीडियो अब सामने आया है. वीडियो में ग्रामीण शीबू के हाथ-पैर रस्सी से बांधकर बुरी तरह पीटते देखे जा रहे हैं.

शीबू चीख-चिल्ला रहे हैं. भीड़ में शामिल लोग उनका नाम-पता पूछते हैं. शीबू जवाब देते हैं-आजमनगर में रहता हूं. और पिता का नाम इरशाद है.

इस पर एक व्यक्ति उनकी धर्म का उल्लेख करते हुए तेज आवाज में चिल्लाता है…पीटने और सवाल-जवाब का सिलसिला वीडियो में साफ देखा-सुना जा सकता है.

शीबू और उनके तीनों साथी-बरेली शहर के मुहल्ला आजम नगर के रहने वाले हैं. घटना के बाद से चारों जेल में हैं. एसपी सिटी रविंद्र कुमार ने इस मामले में बयान जारी किया है. जिसमें कहा है कि ”सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रहा है. जांच में पता चला है कि ये भरतौल गांव का है.

एसपी सिटी ने कहा-”22 जुलाई को भरतौल के ग्रामीणों ने चार लोगों को पकड़ा था. ये चारों कबाड़ी का काम करते थे. और गांव में पंचायत घर की जालियां चुराते पकड़े गए थे. इन चारों के साथ स्थानीय ग्रामीणों ने मारपीट की थी. बाद में पुलिस इन्हें थाने लाई. पूछताछ की. और चारों के विरुद्ध आइपीसी की धारा-379 और 411 के तहत मामला पंजीकृत किया गया. मेडिकल परीक्षण कराकर चारों को जेल भेजा जा चुका है.”

वहीं, शीबू के पिता इरशाद ने कहा कि उनका बेटा कबाड़ी का काम करता है. उस दिन भी वो कबाड़ लेने ही गया था. लेकिन उसे बेहरमी से पीटा गया. बाद में पुलिस के हवाले कर दिया. जहां से उन्हें जेल भेज दिया गया. पहली बात चोरी की बात गलत है. अगर इसमें सच्चाई भी है तो इस तरह उन्हें पीटना नहीं चाहिए था. पुलिस में शिकायत देते. वह कार्रवाई करती.

उसे पकड़कर बुरी तरह पीटा गया. और जेल भेज दिया. लेकिन जिन लोगों ने उसके साथ बेरहमी के साथ मारपीट की. उन पर कोई कार्रवाई नहीं हुई है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *