कोयला तस्करी मामले में बंगाल के सात आईपीएस अफसरों को प्रवर्तन निदेशालय ने किया तलब

नई दिल्ली: कोयला तस्करी मामले (Coal Smuggling Case) में प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने पश्चिम बंगाल में तैनात सात आईपीएस अधिकारियों को तलब किया है.
बता दें कि, ज्ञानवंत सिंह (एडीजी, सीआईडी), कोटेश्वर राव (एसपी), एस सेल्वामुरुगन (एसपी, पुरुलिया), श्याम सिंह (डीआईजी, मिदनापुर रेंज), राजीव मिश्रा ( एडीजी और आईजीपी, प्लानिंग), सुकेश कुमार जैन (साइबर, सीआईडी) और तथागत बसु (एसपी) को तलब किया गया है.

आईपीएस अफसरों से 26 जुलाई से शुरू होगी पूछताछ

इन सभी को ईडी ने जुलाई और अगस्त में अलग-अलग तारीखों पर जांच में शामिल होने को कहा है. इन IPS अधिकारियों से पूछताछ 26 जुलाई से शुरू होने की उम्मीद है और कम से कम 6 अगस्त तक जारी रहने की उम्मीद है. समन किए गए कुछ आईपीएस अधिकारियों को उस इलाके में तैनात किया गया था, जहां अवैध कोयला खनन और तस्करी हो रही थी.

अधिकारियों को कोयला तस्करी रैकेट की जानकारी थी लेकिन नहीं की कार्रवाई

सूत्रों के मुताबिक, ईडी की जांच से संकेत मिलता है कि, आईपीएस अधिकारियों को कोयला तस्करी रैकेट की जानकारी थी, लेकिन उनके द्वारा कोई कार्रवाई नहीं की गई. सूत्रों का यह भी दावा है कि सरकारी वाहनों में नकदी के परिवहन में कुछ पुलिस अधिकारी भी शामिल थे.

ईडी ने इस मामले में विकास मिश्रा को किया था गिरफ्तार

इससे पहले ईडी ने इस मामले में फरार आरोपी विनय मिश्रा के भाई विकास मिश्रा को गिरफ्तार किया था. टीएमसी के युवा नेता और मामले के मुख्य आरोपी विनय मिश्रा पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के भतीजे अभिषेक बनर्जी के कथित करीबी सहयोगी हैं

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *